कैप्टन अमरिंदर सिंह के सामने पटियाला नगर निगम से हटाए गए उनके चहेते मेयर संजीव बिट्टू


Punjab Election 2022: पंजाब में कांग्रेस से इस्तीफा देकर अपनी नई पार्टी बनाने वाले पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को कांग्रेस से एक और झटका मिला है. कैप्टन के गढ़ पटियाला में उनके करीबी माने जाने वाले मेयर संजीव शर्मा बिट्टू को अविश्वास प्रस्ताव में हार का सामना करने के बाद हटा दिया गया और उनकी जगह पर अब डिप्टी मेयर योगिंदर सिंह योगी नए मेयर होंगे. अविश्वास प्रस्ताव के दौरान पटियाला नगर निगम में जमकर हंगामा भी हुआ. अमरिंदर सिंह ने अपने करीबी संजीव शर्मा बिट्टू को पद से हटाने को अवैध बताया. 

पटियाला नगर निगम में 40 पार्षदों ने संजीव शर्मा बिट्टू के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की मांग की थी. वोट के दौरान संजीव शर्मा बिट्टू को 25 वोट मिले, जबकि उनके विरोध में 36 पार्षदों ने वोट किया. इसे लेकर कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि पटियाला के मेयर को हटाने के लिए 2/3 बहुमत चाहिए था, लेकिन 63 में से 25 वोट मेयर संजीव शर्मा बिट्टू के पक्ष में पड़े यानी मेयर को हटाया नहीं जा सकता था, लेकिन धक्के से मेयर को सस्पेंड किया गया. इसके खिलाफ संजीव शर्मा कोर्ट जाएंगे.

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने ट्वीट किया, “पंजाब की कांग्रेस सरकार ने जो किया वो बेहद शर्मनाक है, जो अपने आखिरी पड़ाव पर है वो पटियाला के निवार्चित पार्षद को डराने-धमकाने के लिए सरकारी मशीनरी का इस्तेमाल कर रही है. तमाम हठधर्मिता के बावजूद वे मेयर के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पारित नहीं कर सके, क्योंकि उनके पास संख्या कम थी.”

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने संजीव शर्मा बिट्टू की कुर्सी बचाने की पूरी कोशिश की थी. वोटिंग के दौरान कैप्टन भी निगम में मौजूद रहे. अमरिंदर सिंह ने बिट्‌टू के समर्थन में वोट भी डाला था. संजीव शर्मा बिट्टू को जो 25 वोट मिले थे, उनमें से 22 पार्षद और तीन वोट स्थानीय विधायक के तौर पर अमरिंदर सिंह, हरिंदर पाल सिंह और अकाली दल के पार्षद हरिंदर कोहली ने दिया था.  

UP Election 2022: मायावती को लगा बड़ा झटका, एक और विधायक ने छोड़ा पार्टी का दामन

Congress Meeting: सोनिया गांधी की कांग्रेस नेताओं के साथ बैठक, संसद में MSP समेत इन मुद्दों को उठाने का लिया गया फैसला





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here