देश में ओमीक्रोन के 32 मामले, महाराष्ट्र में साढ़े तीन साल की बच्ची समेत सात नए केस सामने आए

Omicron Updates: सरकार ने कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमीक्रोन पर चिंताओं के बीच देश में मास्क का इस्तेमाल कम होने को लेकर आगाह किया और कहा कि लोग जोखिम भरा और अस्वीकार्य व्यवहार कर रहे हैं. बता दें कि देश में ओमीक्रोन के मामले बढ़ कर 32 हो गए हैं.

एक आधिकारिक प्रेस रिलीज़ के अनुसार, पुणे जिले में साढ़े तीन वर्षीय बच्ची समेत महाराष्ट्र में ओमीक्रोन के सात नए मामले सामने आए हैं. यह बच्ची कोविड-19 के इस नए स्वरूप से संक्रमित देश की सबसे कम उम्र की मरीज हो सकती है. सात नए मामलों में से चार पुणे जिले से हैं और ये सभी भारतीय मूल की नाइजीरिया से आई तीन महिलाओं के संपर्क में आए थे, जिनमें पहले इस संक्रमण की पुष्टि हुई थी. गुजरात में भी ओमीक्रोन के दो नए मामले सामने आए हैं.

वाशिंगटन विश्वविद्यालय में स्वतंत्र वैश्विक स्वास्थ्य अनुसंधान केंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ मीट्रिक्स एंड इवैल्यूएशन के आकलन का हवाला देते हुए नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ. वी के पॉल ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि देश में मास्क का इस्तेमाल कोरोना वायरस की दूसरी लहर आने के पहले की अवधि की तुलना में कम हो गया है.

उन्होंने टीके की खुराक लेने और मास्क लगाने, दोनों को महत्वपूर्ण बताते हुए कहा, “हम आपको आगाह करते हैं कि अभी मास्क हटाने का वक्त नहीं आया है. इस तरीके से हम फिर से खतरे की स्थिति में आ गए हैं. सुरक्षा क्षमता के नजरिए से हम निचले, जोखिम भरे और अस्वीकार्य स्तर पर हैं. हमें यह याद रखना होगा कि टीके की दोनों खुराक और मास्क अहम है.”

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के हाल के विश्लेषण का जिक्र करते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय में संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि डब्ल्यूएचओ ने कहा है कि जन स्वास्थ्य एवं सामाजिक उपाय (पीएचएसएम) का अनुपालन कम हो रहा है जबकि टीकाकरण दर में वृद्धि हुई है. उन्होंने कहा कि हमें अपनी और हमारे आसपास के लोगों की कोविड-19 से रक्षा करने के लिए इन सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों का पालन करने की आवश्यकता है. 

अग्रवाल ने कहा, “ओमीक्रोन के मामले कुल स्वरूपों के मामलों के 0.04 प्रतिशत से भी कम हैं. सभी मामले में हल्के लक्षण देखे गए हैं.” संक्रमण के इन कुल मामलों में महाराष्ट्र से शाम को आए ओमीक्रोन के सात नए मामले शामिल नहीं हैं. उन्होंने कहा कि चिकित्सीय रूप से ओमीक्रोन से स्वास्थ्य देखभाल व्यवस्था पर अभी तक बोझ नहीं पड़ रहा है लेकिन सावधानी बरतनी होगी. 

महाराष्ट्र के स्वास्थ्य विभाग ने एक प्रेस रिलीज में कहा कि राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान की ताजा रिपोर्ट के अनुसार, राज्य में ओमीक्रोन के सात नए मामले आए हैं, जिनमें से तीन मुंबई में और चार पुणे जिले के पिंपरी चिंचवड़ नगर निगम (पीसीएमसी) से सामने आए हैं. इसमें कहा गया है, राज्य में ओमीक्रोन के कुल मामलों की संख्या बढ़कर 17 हो गयी है.

संसद की एक समिति ने सुझाव दिया है कि स्वास्थ्य मंत्रालय को विभिन्न संबद्ध एजेंसियों के साथ समन्वय कर कोरोना वायरस के विभिन्न स्वरूपों से मुकाबला करने के लिए कोरोना रोधी टीकों की बूस्टर खुराक की जरूरत के बारे में पता लगाना चाहिए. 

इस बीच केंद्र ने कहा कि एनईजीवीएसी और एनटीएजीआई कोरोना वायरस के खिलाफ बूस्टर खुराकों के खिलाफ स्पष्टीकरण के संबंध में वैज्ञानिक सबूतों पर विचार कर रही है. स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री डॉ. भारती प्रवीण पवार ने शुक्रवार को संसद में एक लिखित जवाब में स्पष्ट किया कि वेबसाइट ‘अवरवर्ल्डडेटाडाटओआरजी’ पर उपलब्ध जानकारी के अनुसार दुनिया में 60 से अधिक देश कोविड-19 रोधी टीके की बूस्टर खुराक दे रहे हैं. 

Bihar News

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Bnews. Publisher:
News Publisher link

Leave a Reply