किशोर कुमार (Kishore Kumar) बॉलिवुड और मनोरंजन जगत का वो शख्सियत हैं, जिससे हर किसी को प्यार है, जिनकी आवाज और ऐक्टिंग के सभी कायल हैं। हालांकि, किशोर की लाइफ से जुड़ा एक ऐसा किस्सा है, जिसे याद कर फैन्स को न चाहते हुए भी टीस महसूस होती है।

निर्देशन, अभिनय और गायन में हर तरह के प्रयोग करने वाले और अपने चुलबुले अंदाज के लिए फेमस, हरदिल अजीज फनकार किशोर कुमार का जन्म आज के दिन 4 अगस्त (1929) को हुआ था। उन्हें हिन्दी सिनेमा में तमाम तरह के किरदारों को बखूबी निभाने के लिए जाना जाता है और उनके गायन की शैली और कॉमिडी को लोग आज भी याद करते हैं। अपने फिल्मी सफर को लेकर किशोर कुमार जितने ही सफल रहे, पर्सनल लाइफ उतने ही ज्यादा उलझे। किशोर कुमार ने अपनी लाइफ में 4 शादियां कीं, जिनमें से एक मधुबाला भी थीं।

टीस देने वाला है किशोर कुमार का यह किस्सा
मधुबाला से जुड़े किशोर कुमार के इस दर्द भरे चैप्टर को सुनकर, फैन्स को अक्सर एक टीस सी होती है। कहते हैं कि उस वक्त मधुबाला दिलीप कुमार के प्यार में धोखा खा चुकी थीं और तब उनकी तरफ किशोर कुमार ने हाथ बढ़ाया था। दोनों फिल्म ‘महलों के ख्वाब’ के दौरान एक-दूसरे के करीब आए। दोनों का अफेयर करीब तीन साल तक चला फिर उनकी शादी हो गई। उस वक्त मधुबाला 27 साल की थीं। यहां तक तो सब अच्छा रहा, मुश्किल वक्त का दौर इसके बाद शुरू हुआ।

किशोर कुमार को लंदन में मधुबाला की बीमारी का पता लगा

शादी के बाद मधुबाला बीमार हुईं और किशोर उन्हें लंदन लेकर गए जहां डॉक्टरों ने साफ कह दिया कि वह बस 2 साल जिंदा रहेंगी। वहीं उन्हें पता चला कि मधुबाला के दिल में छेद है और उनके पास केवल 2 साल हैं। बोलने को लोग यह भी बोलते हैं कि जब किशोर कुमार को उनकी बामीरी का पता चला तो उन्होंने मुंबई में एक घर लेकर नर्स और ड्राइवर के साथ उन्हें वहां छोड़ दिया।

बीमार मधुबाला को मायके छोड़ गए थे किशोर कुमार
रिपोर्ट्स ऐसे ही हैं जिनमें बताया गया कि किशोर कुमार उन्हें देखने भी कभी-कभार ही जाते। हालांकि, मधुबाला की बहन मधुर ने बताया था कि किशोर कुमार ने उन्हें उनके मायके में यह कहकर छोड़ा कि वह अक्सर बाहर रहते हैं, इसलिए उनका ख्याल नहीं रख सकते। किशोर कुमार ने मधुबाला की दवाइयों का खर्च उनकी मौत के वक्त तक उठाया और एक-दो महीने में एक बार उनसे मिलने भी आया करते थे।

डॉक्टर ने सेक्स और बच्चे न करने की दी थी सलाह
कहते हैं कि अपनी बीमारी के दौरान मधुबाला किशोर कुमार के साथ ही रहना चाहती थीं, लेकिन काम की व्यस्तता की वजह से वह उनसे मिलने भी मुश्किल से जाया करते थे। मधुबाला बीमारी से अधिक अपने अकेलेपन की वजह से और घुटने लगी थीं। मधुबाला की बहन मधुर ने फिल्मफेयर को दिए अपने इंटरव्यू में बताया था कि अपनी लाइफ के इस क्रिटिकल स्टेज पर मधुबाला अपने पति का साथ चाहती थीं। हालांकि, मधुर ने किशोर कुमार का पक्ष लेते हुए कहा था, ‘हम नहीं कहते कि वह गलत थे, आपा (मधुबाला) को डॉक्टर ने बताया था कि इस हालत में न तो सेक्स कर सकती हैं और न ही बच्चे पैदा कर सकती हैं…लेकिन चाहे जो भी हो एक महिला को इमोशनल सपोर्ट की जरूरत होती है।’

हसबैंड को काफी मिस किया करती थीं मधुबाला
उन्होंने कहा था, ‘आपा जिद करती थीं कि उन्हें उनके साथ रहना है, इसलिए उन्होंने कार्टर रोड पर एक फ्लैट लिया, जहां वे कुछ समय के लिए रहे। लेकिन वह अधिकतर समय अकेले रहा करती थीं। आखिरकार वह अपने पिता के घर लौट आईं और मधुबाला अपने हसबैंड को काफी मिस किया करती थीं।’

मधुबाला के मन में शक पलने लगा था
मधुर ने यह भी बताया था, ‘अक्सर किशोर भैया का फोन डिस्कनेक्ट हो जाया करता था। 2-3 महीने में वह एक बार मिलने आया करते थे। वह कहा करते- अगर मैं आऊंगा तो तुम रोओगी और यह तुम्हारे हार्ट के लिए अच्छा नहीं। तुम डिप्रेशन में चली जाओगी, तुम्हें रेस्ट लेना चाहिए।’ मधुर ने ये भी माना था कि उनकी बहन को शक होने लगा था, इस स्टेज में भी वह अकेली लाइफ जी रही थीं। उन्होंने मधुबाला के लिए कहा, ‘वह जवान थीं तो ईर्ष्या होना लाजिमी था और अकेलापन उन्हें मार रहा था।’

नाक और मुंह से होती थीं उन्हें खून की उल्टियां
उनकी बहन ने यह भी कहा, ‘उनमें गजब का विल पावर था। जहां वह केवल 2 साल जीने वाली थीं, वह 9 साल तक रहीं। वह कहती थीं, मैं मरना नहीं चाहती। वह पूरी तरह से हड्डी का ढांचा रह गई थीं। लोग उनसे मिलना चाहते थे लेकिन वह नहीं चाहती थीं कि कोई उन्हें इस हाल में देखे। वह आईने में खुद को देखकर कहा करती- देखो मैं क्या से क्या हो गई। धीरे-धीरे नाक और मुंह से उन्हें खून की उल्टियां होने लगी थी, लेकिन वह किसी की मदद नहीं लेती। अपना नहाना, खाना सबकुछ खुद ही किया करतीं। उनके पास एक ऑक्सिजन सिलिंडर हमेशा मौजूद रहता। वह कहा करतीं कि मेरे पीछे पैसे मत बर्बाद करो, मैं नहीं बचूंगी।’

‘किशोर कुमार से कहा- अब मधुबाला को दोबारा नहीं देख पाओगे’
मधुर ने इस दर्दनाक किस्सा को सुनाते हुए बताया था, ’23 फरवरी 1969 को उनकी हालत काफी खराब हो गई और अताउल्लाह खान ने किशोर कुमार को फोन किया। किशोर कुमार किसी शो के लिए कोलकाता जा रहे थे। उन्हें डर था कि कहीं ऑर्गनाइजर्स के पैसे उनके हाथ से निकल न जाएं, लेकिन अब्बा ने उनसे कहा कि अब मधुबाला को दोबारा नहीं देख पाओगे।’

इस तरह बॉलिवुड की सबसे शानदार और खूबसूरत अदाकारा ने अपनी लाइफ के आखिरी वक्त में वो दौर देखा, जो शायद कोई पत्नी नहीं चाहेगी। इसके बाद किशोर ने 1976 में योगिता बाली के साथ शादी की, लेकिन यह रिश्ता भी चल न सका।

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Bnews. : Publisher

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *