<p style="text-align: justify;"><strong>प्रयागराज:</strong> इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने ऑक्सीजन की कमी से हुई कोविड-19 मरीजों की मौत से जुड़ी खबरों पर संज्ञान लेते हुए लखनऊ और मेरठ के जिलाधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे इनकी 48 घंटों के भीतर तथ्यात्मक जांच करें.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>जांच रिपोर्ट पेश करें जिलाधिकारी&nbsp;</strong></p>
<p style="text-align: justify;">अदालत ने दोनों जिलाधिकारियों से कहा है कि वे मामले की अगली सुनवाई पर अपनी जांच रिपोर्ट पेश करें और अदालत में ऑनलाइन उपस्थित रहें. न्यायमूर्ति सिद्धार्थ वर्मा और न्यायमूर्ति अजित कुमार की पीठ ने राज्य में संक्रमण के प्रसार और पृथक-वास केन्द्र की स्थिति संबंधी जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए यह निर्देश दिया.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>अदालत ने की सख्त टिप्पणी</strong></p>
<p style="text-align: justify;">अदालत ने कहा, &ldquo;हमें यह देखकर दुख हो रहा है कि अस्पतालों को ऑक्सीजन की आपूर्ति नहीं होने से कोविड मरीजों की जान जा रही है. यह एक आपराधिक कृत्य है और यह उन लोगों द्वारा नरसंहार से कम नहीं है जिन्हें तरल चिकित्सीय ऑक्सीजन की सतत खरीद एवं आपूर्ति सुनिश्चित करने का काम सौंपा गया है.&rdquo;</p>
<p style="text-align: justify;">पीठ ने कहा, &ldquo;जब विज्ञान इतनी उन्नति कर गया है कि इन दिनों हृदय प्रतिरोपण और मस्तिष्क की सर्जरी की जा रही है, ऐसे में हम अपने लोगों को इस तरह से कैसे मरने दे सकते हैं. आमतौर पर हम सोशल मीडिया पर वायरल हुई ऐसी खबरों को जांचने के लिए राज्य और जिला प्रशासन से नहीं कहते, लेकिन इस जनहित याचिका में पेश अधिवक्ता इस तरह की खबरों का समर्थन कर रहे हैं, इसलिए हमारा सरकार को तत्काल इस संबंध में कदम उठाने के लिए कहना आवश्यक है.&rsquo;&rsquo;</p>
<p style="text-align: justify;">ये भी पढ़ें.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong><a href="https://www.abplive.com/states/up-uk/five-people-died-in-a-village-of-pilibhit-villagers-send-back-health-team-1910189">पीलीभीतः संदेहास्पद स्थिति में हुई पांच लोगों की मौत, जांच करने गई मेडिकल टीम को ग्रामीणों ने लौटाया</a></strong></p>

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Bnews. : Publisher

Leave a Reply